सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बंद कमरे का पाप कहानी

अंजलि आईने के सामने खड़ी होकर अपने रूप यौवन को देखकर इतरा रही थी माथे पर आई लटों को कभी इधर करती कभी उधर कभी भोहो पर छोटे से ब्रश से कोई क़ीम लगाती तब कभी औठो पर बदल बदल कर लिपस्टिक लगाती तब कभी अपने सीने को देखकर लजाती तब कभी अपनी कटील आंखों को देखकर इधर उधर घुमाती क्यों न हो वह किसी जलपरी जैसी ही तो थी पतली कमर सुराहीदार गर्दन गुलाबी-गुलाबी गुलाब कि पंखुड़ियों जैसे होंठ, सुतवा नाक चोड़ा माथा फिर गर्दन के नीचे कमर तक लटकते हुए नागिन जैसे बाल गोरी त्वचा लम्बी छरहरी देह जब वह घर से कालेज जाने को निकलती थी तब मुहल्ले के छिछोरे लड़के उसकि स्कूटी के पीछे मोटरसाइकिल दौड़ाते कोई उसे गुलाब का फूल देकर प्यार का इजहार करता तब कोई महंगा मोबाइल फोन दिलाने का कहता तब कोई शायरी गा कर उसे लुभाने का प्रयास करता किन्तु वह किसी को भी भाव नहीं देती थी कारण वह संस्कार वान लड़की थी लेकिन कुछ दिनों से वह  लम्बी महंगी कार पर सवार खुबसूरत नौजवान कि और  आकर्षक हों रही थी हालांकि वह उसे सही तरीके से जानती भी नहीं थी बस कभी कभी कालेज के पास वाली कुल्हड़ वाली चाय कि दुकान पर उसे देखकर अनदेखा कर देती थी खैर वह श्रंगार करते हुए ख्यालों में खोई हुई थी तभी उसको मां कि आवाज सुनाई दी थी अंजलि आज कालेज नहीं जाना क्या 
जी बस तैयार हो गई हूं उसने मां को जबाब दिया था 
कुछ देर बाद वह स्कूटी सरपट दौड़ा कर कालेज पहुंच गयी थी वापसी में न चाहते हुए वह उसी कुल्हड़ वाली चाय कि कैंटिन में रुक गई थी ।
भैया ऐक कप कुल्हड़ वाली चाय उसने कहा था 
कैंटीन कालेज के लड़के लड़कियों से भरी हुई थी उसे दूर कोने में ऐक खाली कुर्सी नजर आई थीं लम्बे लम्बे डग भरते हुए 
हलों क्या मैं यहां बैठ सकती हूं शालीनता से पूछा था 
जी जी बैठिएगा दूसरी और से कहा गया था
अंजली उस नौजवान युवक को देखकर चौंक उठी थी अरे यह तो वही लड़का है जिस कि तरफ वह आकर्षित हो रही थी तभी वेटर कुल्हड़ वाली चाय ले आया था कुल्हड़ में से मिट्टी कि सोंधी सोंधी महक आ रही थी झट से उसने पहला घूंट हलक में उतार लिया था सामने वाले नौजवान ने कहा था कि लगता है कि आप को कुल्हड़ कि चाय पसंद है ।
जी जी दोनों में बातचीत होने लगी थी बातों बातों में आप का नाम 
जी अभय डिसूजा 
और आपका 
अंजली सचदेवा 
दोनों ने एक  दूसरे के मोबाइल नम्बर ले लिए थे ।
अंजली का आज मन पड़ने में नहीं लग रहा था वह बी काम पहले साल में थी कुछ देर मोबाइल पर वेब सीरीज देखती रही फिर उसने वाट्स एप से अभय को मैसेज भेजा
हलो हाय कैसे हैं आप 
जी अच्छा अभय ने जबाव में टाइप किया था 
आप क्या करते हैं 

जी मेरी नोएडा में कंपनी हैं 
अच्छा अच्छा आप कि तो शादी हो गई होंगी या फिर किसी के साथ रिलेशनशिप में होंगे 
हा तीसरी गर्लफ्रेंड के साथ था लेकिन कुछ कारणों से हमने ब्रेकअप ले लिया ऐसे ही चैटिंग अनेक दिन चलती रही थी फिर एक दिन अंजलि ने उसकी चोथी गर्लफ्रेंड बनने का प्रस्ताव स्वीकार कर अगले  दिन मिलने का वादा किया गया था ।

दिल्ली में सर्दी चर्म पर थी साथ ही ठंडी हवाएं चल रही थी वातावरण में कोहरा छाया हुआ था ऐसे मौसम में अंजली कनाट पेलेश से औरंगजेब रोड पर जाकर सौपिग माल के सामने स्कूटी पार्क कर वाट्स एप पर करंट लोकेशन शेयर कि थी थोड़ी देर बाद अभय लम्बी महंगी कार से आ गया था अंजलि कार में सवार हो गई थी कार सड़क पर सरपट भाग रही थी अंजलि ने पूछा था कि हम कहां जा रहे हैं 
तब अभय ने कहा फार्म हाउस बस कुछ ही किलोमीटर दूर है
कोहरे को चीरती हुई कार सड़क पर सरपट दौड़ रही थी अंजलि के मस्तिष्क में नाना प्रकार के ख्याल आ रहें थें अंदर बैठा अवचेतन मन उसे समझाने का प्रयास कर रहा था मच जा अंजलि देख पहले ही वह तेरी जैसी दो लड़कियां को छोड़ चुका है फिर दूसरे ही पल ख्याल आते-जाते नहीं नहीं वह मेरे साथ धोखा नहीं करेगा और हां में तो सिर्फ उसके साथ घूमने जा रही हूं मैं तो पास ही नहीं आने दूंगी फिर उसे वेब सीरीज के कुछ दृश्य देते कैसे ऐक दूसरे को चूमते हुए .... आगे के दृश्य को याद करते हुए वह रोमांच से भर जाती फिर अगले ही पल माता पिता का ख्याल आता अगर कभी कोई उच नीच हों गई तब उनकी कितनी जग हंसाई होंगी कहीं मुंह दिखाने लायक भी नहीं रहेंगे फिर कभी मन ही मन में भला उन्हें कैसे बंद कमरे का गुनाह मालूम पड़ेगा कहते हैं कि इंसान का अंतर्मन कोई भी बुरा काम करने से पहले उसे सचेत करता है लेकिन अंदर बैठा सैतान मन को दूसरी दिशा में ले जाकर पतन कि और धकेल देता है।
कार जैसे ही आलीशान फार्म हाउस के गेट पर पहुंची दरवान ने भारी भरकम गेट खोल कर सैल्यूट ठोंका था अभय ने गाड़ी से उतर कर खुद आगे का गेट खोल कर बाहर आने का इसारा किया था शायद पहले ही फार्म हाउस के अंदर के सभी नोकर नौकरानी को पहले से ही सूचना पहुंच गई थी इसलिए तो सभी इतंजार कर रहे होंगे अभय ने दरवान से काका यह मेरी मित्र मिस अंजलि  अभय के परिचय देते ही सभी नौकरों ने नमस्कार किया था फिर फार्म हाउस के बगीचे छोटा सा नहाने वाला तालाब  और छोटा सा खूबसूरत बंगला सब कुछ दिखाया था बंगले के अंदर का डैकोरेशन सजावट देख कर अंजलि चकित रह गयी थी और बैडरूम का नजारा अद्भुत था नक्काशी दार सीसम कि लकड़ी से बना पलंग उस पर मोटे मोटे विदेशी गद्दे साफ स्वच्छ चादर तकिया कुशिंग और उससे सटा हुआ टायलेट जो कि इटालियन टायल्स संगमरमर से तैयार किया गया था ।
अंजली ने कहा था यह सब आप का है 
जी ऐसे अनेक फार्म हाउस हैं दरअसल मेरे पापा का विजनेश ही फार्म हाउस खरीदना व फिर बेचने का हैं बातों बातों में ही अभय ने उसे आगोश में लेकर किस करना, चालू कर दिया था थोड़ी प़तिरोध के बाद अंजलि सहयोग करने लगी थी कुछ छड़ बाद उसके मुंह से दर्द भरी चींखें निकल रही थी तभी अभय ने फुसफुसाते हुए कहा था कि मुझे नहीं मालूम कि तुम वर्जिन हों मुझे वर्जन लड़की बहुत पसंद हैं और हां मेरी पिछली तीनो गर्लफ्रेंड भी तो वर्जन ही थी बस मेरी जान कुछ देर और देखना कितना मज़ा आता है अंजलि आज पहली बार विना शादी के किसी पुरुष के आगोश में समा कर उसका पूर्ण रूप से सहयोग कर रही थी  अंजलि अब लड़की से औरत बन गई थी । कुछ महीने बाद अंजलि अभय हमें शादी कर लेना चाहिए 
उसके ऐसा वोलते हुए अभय ने कहा था इतनी जल्दी क्या मेरी जान अरे भाई हम लिव इन रिलेशन में रह रहे हैं यह शादी तो ही हैं ।
नहीं मैं कानूनी सामाजिक रूप से तुम्हारी पत्नी बनना चाहती हूं आपको शादी करनी ही होगी वह जिद पर अड़ी थी ।
अभय ने कहा कि देखो मेरे पिताजी तुम्हारे साथ व्याह के लिए तैयार नहीं होंगे हम ऐसे ही रहेंगे मंजूर है तब ठीक वर्ना हमें अलग होना पड़ेगा ।
उसके ऐसा कहते ही अंजलि के पैरों के नीचे से धरती खिसक गई थी आंखों से अश्रु निकलने लगें थें सिसकते हुए बोली अभय मैंने तुम्हें अपने तन और मन से स्वीकार किया जरा मेरे लिए भी सोचों में तुम्हारे बिना नहीं रह सकती फिर फूट फूटकर रोने लगी थी ।
तुम्हारी जैसी लड़कियां कि यहीं परेशानी हैं तुमने भी तो मजे लिए और में जबरदस्ती तुम्हें तो नहीं लाया लगता है कि गले कि हड्डी बन रही हों दोनों के बीच जबरजस्त झगड़ा हुआ था ऐसे ही लड़ते झगड़ते हुए अपने अपने घर आ गए थे ।
अभय ने उसका मोबाइल नंबर वलैक लिस्ट में डाल दिया था अंजलि मन से और तन से दोनों और से दुखी थी कारण उसका पेट फूल रहा था ऐक दिन उसकि मम्मी का ध्यान उभरे हुए पेट पर गया था उसने पिता को बताया था भाइयों को मालूम पड़ गया था सांत्वना समझाने के बजाए उसे सभी ने डांट डपट दिया था यहां तक कि उसे घर से बाहर निकाल दिया था ।
कुछ महीनों बाद मैली हो चुकी अंजलि सड़कों पर पागल हो कर भटक रहीं हैं सुनते हैं कि उस पगली ने वेटी को जन्म दिया था जिसे पुलिस कानूनन किसी संतान हीन दंपति ने गोद ले लिया बंद कमरे के पाप ने हमेशा हमेशा के लिए...... पागल बना दिया ।।













टिप्पणियाँ

Popular Posts

बड़ा दिन कविता

 आज तो बड़ा दिन था  पर पता नहीं चला बिना हलचल के ही गुजर गया रोज कि भाती सूरज उषा के साथ फाग खेलता आया संध्या के साथ आंख मिचौली करता चला गया चतुर्थी का चंद्रमा उभरा अपना शीतल प्रकाश बिखेर चल दिया तारों कि बारात आकाश में उतर मोन दर्शक बन चहुं ओर बिखर गई रोज कि भाती लोगों कि भीड़ अपना अपना कर्म कर सो गई पंछियों के समूह प्रभात के साथ कलरव का गान कर संध्या आते गुनगुनाते चहचहाते पंखों को फड़फड़ाते घोंसलों में चलें गये  हर दिन बड़ा दिन ऐसा कहते हमें समझाते गये।।

शब्दों का व्यापार लघु कविता

 अब तो बस शब्दों का व्यापार है। सत्य असत्य का शब्द ही आधार है।। शब्दों से भरी हवाएं चारों ओर वह रही है शब्दों से भरे अखबारों कि रद्दी बिक रही है शब्दों से न जाने कितने वादे किए जाते हैं पूरे न किए तब शब्द ही माफी मांगते है शब्दों को ओढ़ अनेकों प्रतिभाएं चल रही है कर्म से नाता तोड फलफूल रही है  शब्दों से लोग अपनी योग्यता बताते हैं दोस्त अपनी दोस्ती शब्दों से आगे बढ़ाते हैं और तो और शब्दों के बल पर प्यार हो जाता है इन्हीं शब्दों से नवयुवक नवयुवती का संसार वस जाता है शब्दों कि संवेदना न जाने कितने को जोड़े हैं  शब्दों कि बरसात न जाने कितने को तोड़ें है शब्दों के बल पर नेता अभिनेता रोजीरोटी धन कमाते हैं पर कवि लेखक शब्दों को लिखकर बेवकूफ कहलाते हैं नेता अभिनेता दो शब्दों को कह गृहप्रवेश दुकान का उद्घाटन करते हैं भाईसाहब दुनिया शब्दों के घेरे में चल रही है। आत्मा को परमात्मा से दूर कर तेरा मेरा संजोए हुए है और तो और धर्म भी शब्दों में कैद हैं  कुछ पाखंडी हर धर्म शास्त्री शब्दों को तोल कर दुकान चला रहे हैं  शब्दों को चांदी विन शब्दों को सोना कहा जाता है परन्तु सोना छोड़ यहां इंसान चांदी अपना

ससुर जी का दूसरा विवाह समाजिक कहानी

 आजकाल नीता ससुर जी के व्योहार में अलग तरह का परिवर्तन देख रही थी जैसे कि जब वह किचन में खाना पकाने में व्यस्त रहतीं तब अनावश्यक ही वह किसी न किसी बहाने से आ जाते व जब वह बाथरूम में नहाने जाती तब उसे लगता था कि जेसै कोई दरवाजे कै ऊपर लगे रोशन दान से झांकने कि कोशिश कर रहा है व जैसे कि जब वह पति के साथ अंतरंग पलों में होती तब खिड़की के पास कोई खड़ा होकर अन्दर के दृश्य को देखने कि कौशिश कर रहा होता हालांकि उसने यह सब अपने मन का बहम समझ कर दिमाग से निकाल दिया था परन्तु हद तो तब हो गई थी कि वह बेडरूम में कपड़े बदल रही थी तभी ससुर जी ने गेट को हल्का सा धक्का देकर अन्दर झांका था उसने हड़बड़ी में बैड सीट से अपनी देह को ढक लिया था वह कुछ छड़ों के लिए किरतबय मूड होकर खड़ी रह गई थी खैर कुछ देर बाद कपड़े पहन कर वह डाईंग रूम में पहुंची थी ससुर जी टेलीविजन पर समाचार देख रहे थे उसने कहा कि आप को कुछ काम था क्या आप को दरवाजा खटखटा कर आना चाहिए था में कुछ दिनों से आप के अजीब व्यवहार को देख रही हूं छी छी आपकों शर्म भी नहीं आतीं ऐसी छिछोरे पन दिखाने में मैं आपकी बहू हूं और बहू बेटी के समान होती है समझें