सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

तृष्णा लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

Kakakikalamse.com

तुम कहां हो

 तुम कहां हो? कहां नहीं हों ? दोनों अनंत काल से चले आ रहें शाश्वत प़शन है इनके उत्तर भी अनंत काल से  शाश्वत हैं। प़भु के बगैर होना तो दूर कल्पना भी संभव नहीं तुम सर्वत्र हो प़भु कण कण में समाए हों प़भु तुम यहां भी हों वहां भी हों आपके बिना कहते हैं कि  पत्ता भी नहीं हिल सकता मंद मंद शीतल पवन नहीं वह सकतीं कल कल करती नदियां नही बह सकतीं हिलोरें मारकर विशाल सागर  अपनी सीमा में नहीं रहता न ही सूर्य अपनी तपिश बिखेर कर हमें रोशनी देता न ही चांद दीए जैसी रोशनी से हमें  शीतलता देता  पूछता हूं प़भु तुम कहां हो। हे प्रभु जब से हम मानव कि अगली पीढ़ी से लेकर  आखिर पीढ़ी तक यह प़शन हमें तबाह किये हुए हैं  बर्बादी के द्वार पर खड़ा किए हुए हैं हे प्रभु प़शन अटपटा सा है पर शब्दों कि गूंज उत्तर के रूप में होती है पर परतीत नहीं होती  हे प्रभु कभी कभी लगता है कि आप हमारे अन्तर मन में हों  तब कभी कभी लगता है कि आप कण कण में हों  तब कभी कभी लगता है कि दीन हीन लाचार अपाहिज मानव  पशु पंछी कि देखभाल करने में  हमें भूल गए हों  लेकिन यह सच है कि प़भु आप तो हो  पर आप कहां हो,??

डर से भरी जिंदगी लेख

भाई साहब यह जमाना स्पेशलिस्टो  का हैं समाज में बाजार में कोर्ट कचहरी, चिकित्सा खेती किसानी,जल वायु, शिक्षा, साहित्य, कविता, कहानी,लेख, चिंतन, दर्शन,पर सभी के पास, डिग्री हैं हो सकता है कि कुछ छेत्र या फिर में सुनील कुमार को अन्य विषय पर जानकारी न हो परन्तु मेरे डाक्टर ने बहुत सारी बीमारी बताई थी  कारण यह था कि मेरी उम्र यो साठ साल से ऊपर हो गई थी भाई साहब आप लोगों को तो पता ही है कि यह उम्र अपने साथ बहुत सारी बिमारी लेकर आती है जैसे कि शुगर, ब्लेड प्रेशर कब्ज बात पित्त आदि मेरा परिवार का डाक्टर भी मनुष्य शरीर का स्पेशल स्पेशलिस्ट हैं जिसने मुझे बहुत सारी बीमारी बताई थी व उसका उपचार, खाना पीना समझाया था । ठीक है बीमारी का आना जाना जैसे सुवह सूर्य उदय होता है तब आंखों में उदय होते रंग मेरे शरीर में उर्जा उमंग भर देते हैं  में अपने आप को तरोताजा समझने लगता हूं फिर उस समय के बाद मेरी धर्मपत्नी  नाश्ता में आपको यह लेना है आपको यह नहीं लेना चाहिए आप को पता नहीं है कि अभी आपकी पिछले हफ्ते  जो रिपोर्ट आई थी उसमें आप कि दिल कि धड़कन कम थी साथ ही शुगर का लेवल भी ज्यादा था डाक्टर ने आपको क्या खान