सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

निर्मल मन लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

Kaka ki kalam se apni se kahaniyan ka pitara

कागजी पहलवान

सांध्य का समय था पंछी टोलियां बनाकर आपस में बात चीत करते हुए पंख फड़फड़ाते हुए अपने अपने घोंसले कि और जा रहें थें दूर कहीं पहाड़ पर सूर्य देव कि आखरी किरण अपनी आभा बिखेर रही थी ऐसे ही समय में कागजी पहलवान अपनी बुलेट मोटरसाइकिल से गांव आ रहा था चूंकि उन दिनों गांव के लिए पक्की सड़क नहीं थी सकरी सी गली थी उसी गली से गांव के जानवर जैसे कि गाय भैंस बकरी बैलगाड़ी ट्रेक्टर के लिए यहीं गली ही थी तभी तो कागजी पहलवान को संध्या समय कि ऐसी बेला में बुलेट चलाने में परेशानी आ रही थी वह कभी जोर जोर होरन बजाता तब कभी बुलेट ऐक और करके खड़ा हो जाता तभी ऐक चरवाहे ने कहा लगता है कि पहलवान कोई मेहमान आए है  हां हां भाई ससुराल से आए है पहलवान ने मूछ पर ताव देकर जबाब दिया था दरअसल बुलेट मोटरसाइकिल के पीछे कि सीट पर सुन्दर सजीला नौजवान बैठा था । हां हां भैया भौजी के तब तो भाई होंगे ही ही ही कर के हंसने लगा था  खैर कागजी पहलवान जैसे तैसे गांव के नजदीक पहुंच कर शराब कि दुकान पर रूक गया था बुलेट मोटरसाइकिल को खड़ा कर वह काउंटर पर पहुंच गया था  कहां से आना हो रहा है पहलवान सेल्समैन ने पूछा था  रेलवे स्टेशन से  ल

"में लेखक हूं";कविता

 जी हां मैं लेखक हूं  में  हू कल्पना लोक में  पहुंच जाता हूं बिन प्लेन मंगल ग्रह  रचाता हूं चांद पर बस्तियां  खोजता हूं ओक्सीजन ओर पानी  क्यों कि मैं ऐक लेखक हूं ।। मेरे पास है संवेदना कोमल हृदय  जो गड़ता रहता है नित नए  विचार और अविष्कार  शब्द है अपरम्पार  क्यों कि मैं ऐक लेखक हूं।। मैंने ही लिखें है बेद पुरान और गीता  जो दिखाते हैं मानव को राह  मेरा ही है रामचरितमानस महाकाव्य  मे सूरदास भी हू https://www.kakakikalamse.com/2020/12/blog-post_81.html   टालस्टाय  गुरूदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर हूं  मुंशी प्रेमचंद का कथा संसार  क्यों कि मैं ऐक लेखक हूं ।। में ऐक शिल्पी हूं  हू शब्दों का आर्किटेक्ट  में ही हूं महान विज्ञानिको  न्यूटन का सिद्धांत  में समय हूं  क्यों कि में ऐक लेखक हूं ।। मैंने ही कि थी खोज  बिजली और परमाणु बम  मैंने ही कि थी सो सौरमंडल के नव गृह  जो देते है हमें नयी ऊर्जा  बताते है जीवन मंत्र।। मेरी नजर में है राम बुद्ध महावीर जीसस और अल्लाह ऐक समान! क्यों कि मेरी रंगों में दौड़ता है खून  जिसका है रंग  लाल भला कोई अलग कर बताएं  उसे देता हूं चैलेंज बार बार  मेरी नज़र में सब मज़हब

"में लेखक हूं";कविता

 जी हां मैं लेखक हूं  में  हू कल्पना लोक में  पहुंच जाता हूं बिन प्लेन मंगल ग्रह  रचाता हूं चांद पर बस्तियां  खोजता हूं ओक्सीजन ओर पानी  क्यों कि मैं ऐक लेखक हूं ।। मेरे पास है संवेदना कोमल हृदय  जो गड़ता रहता है नित नए  विचार और अविष्कार  शब्द है अपरम्पार  क्यों कि मैं ऐक लेखक हूं।। मैंने ही लिखें है बेद पुरान और गीता  जो दिखाते हैं मानव को राह  मेरा ही है रामचरितमानस महाकाव्य  मे सूरदास भी हू https://www.kakakikalamse.com/2020/12/blog-post_81.html   टालस्टाय  गुरूदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर हूं  मुंशी प्रेमचंद का कथा संसार  क्यों कि मैं ऐक लेखक हूं ।। में ऐक शिल्पी हूं  हू शब्दों का आर्किटेक्ट  में ही हूं महान विज्ञानिको  न्यूटन का सिद्धांत  में समय हूं  क्यों कि में ऐक लेखक हूं ।। मैंने ही कि थी खोज  बिजली और परमाणु बम  मैंने ही कि थी सो सौरमंडल के नव गृह  जो देते है हमें नयी ऊर्जा  बताते है जीवन मंत्र।। मेरी नजर में है राम बुद्ध महावीर जीसस और अल्लाह ऐक समान! क्यों कि मेरी रंगों में दौड़ता है खून  जिसका है रंग  लाल भला कोई अलग कर बताएं  उसे देता हूं चैलेंज बार बार  मेरी नज़र में सब मज़हब